कहें क्या हर हकीकत हम | best shayari in hindi

कहें क्या हर हकीकत हम खुशी में फूल जाते हैं,
जो हमको दिल से न चाहें, उन्हें हम भूल जाते हैं।

kahen kya har hakeekat ham khushee mein phool jaate hain,
jo hamako dil se na chaahate, unhen ham bhool jaate hain.

दिल दरिया है एक तुम्हारा गहरा प्रेम समन्दर,
रूप तुम्हारा रंग अनोखा जस बगिया का बन्दर।

dil dariya hai  ek tumhaara gahara prem samandar,
roop tumhaara rang anokha jaise bagiya ka bandar.

ऊपर का चूपर ना देखों दिल की मेरी दरिया,
बन्दर की क्या ताकत जानी अब तक मेरी बंदरिया।

upar ka choopar na dekhon dil kee meree dariya,
bandar kee kya taakat jaanee ab tak meree bandariya.

हम तो तेरी सुन्दरता पर मर बैठे, मोहब्बत करने के लिए,
हम तेरी अदाओं को ना पहचान सके, मोहब्बत करने के लिए।

मैं पैसों से गरीब हूँ तो क्या, दिल से गरीब तो नहीं,
मैं मोहब्ब्त करता हूँ लड़की से, जो पैसों से अमीर नहीं।

क्या हुस्न है तुम्हारा, जो तुम हंसती हो तो हम मरते हैं,
जब तुम मुझसे मोहब्बत करती हो, तो हमारे दिल में अर्मा बिखरते हैं।

लड़की जहाँ चलती है, वहाँ फूल बिखरते हैं,
जहाँ हम मोहब्बत करते हैं, वहाँ काँटे बिखरते हैं।

मोहब्बत हो नहीं सकती, बनाबट के उसूलों से,
खुशबू आ नहीं सकती कभी, कागज के फूलों से।

Post a Comment

0 Comments