greeting card par likhne wali shayari

संतरे के रस को जूस कहते हैं,
ग्रीटिंग न देने वाले को कंजूस कहते हैं।

santare ke ras ko juce kahte hain,
greeting na dene vaale ko kanjoos kahte hain.

आपने क्या सोचा था ग्रीटिंग आयेगा,
आपका ये दोस्त आपको भूल जायेगा।
अरे यही तो अदा है हमारी, आपको सताने की,
वरना आप जैसे दोस्त को कौन भुला पायेगा।

aapne kya socha tha greeting aayega,
aapka ye dost aapko bhul jaayega.
are yahi to adaa hai hamari aapko satane ki,
varna aap jaise dost ko kaun bhula paayega

साथ रहते-रहते यूँ ही वक़्त गुजर जायेगा,
दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा।
ले लो ग्रीटिंग मेरा इस नये साल पर,
कल का क्या पता वक़्त कहां ले जायेगा।

saath rahate-rahate yoon hi vaqt gujar jaega,
door hone ke baad kaun kise  yaad aayega.
le lo greeting mera is naye saal par,
kal ka kya pata vaqt kahaan le jaega.

शिकवा भी होगा हमसे, शिकायत भी होगी हमसे,
पर दोस्त से गिला नहीं करते,
हम अच्छे नहीं बुरे ही सही , तुम्हें साल मुबारक हो,
पर हम जैसे दोस्त मिला नहीं करते।

shikava bhee hoga hamase, shikaayat bhee hogi hamase,
par dost se gila nahin karate,
ham achchhe nahin bure hee sahee, tumhe saal mubaarak ho,
par ham jaise dost mila nahi karate.

Post a Comment

0 Comments