hindi sad shayari wallpaper

सुकून जब से है खतरा यह दिल को हरदम हो,
कहीं वो पूछ न बैठे, कि दर्द क्यों कम हो।

sukoon kab se hai yah dil ko haradam ho,
kaheen vo poochh na baithe, ki dard kyon kam ho.

दिल तोड़ के जाने वाले सुन, दो और अभी भी बाकी हैं,
इक सांस की डोरी अटकी है, इक प्रेम का बन्धन बाकी है।

dil tod ke jaane vaale sun, do aur abhee bhee baakee hain,
ik saans kee doree atakee hai, ik prem ka bandhan baakee hai.

अक्ल कहती है न जा, कूचा-ए-कातिल की तरफ,
सरफरोश की हवश कहती है, चल क्या होगा।

akl kahatee hai na ja, koocha-e-kaatil kee taraf,
sarapharosh kee havash kahatee hai, chal kya hoga।

बेहतर है दिल के पास रहे पास्वान-ए-अक्ल,
लेकिन कभी-कभी इसे तन्हा भी छोड़ दें।

behatar hai dil ke paas hone vaale paasvaan-e-akl,
lekin kabhee-kabhee ise tanha bhee chhod dete hain.

ये तेरी चश्म-ए-फुसूगर में कमाल अच्छा है,
एक का हाल बुरा, एक का हाल अच्छा है।

ye teree chashm-e-phusaagar mein kamal achchha hai,
ek ka haal bura, ek ka haal achchha hai.

आईना रूख को तेरे अहल-ए-वफा कहते हैं,
जिस पर दिल अटके है मेरा उसे क्या कहते हैं।

aina rookh ko te ahal-e-vafa kahate hain,
jo par dil atake hai mera use kya kahate hain.

कहना है उन्हें ये कि हम होंगे न मुखातिब,
पर कहते नहीं जुल्फ बनाने में लगे हैं।

kahna hai unhen ye ki ham honge na mukhaatib,
par kahte nahin julph banaane mein lage hain.

Post a Comment

0 Comments