hindi shayari collection

न दामन पकड़ा न मुझकों विठाया,
न आवाज ही दी न वापिस बुलाया।

na daaman pakada na mujhakon vithaya,
na aavaaj hee dee na vapis bulaaya.

अदाओं और नाज को जालिम, तेरी समशीर कहते हैं,
कलेजे में चुभ जाये, बस उसी को तीर कहते हैं।

adao aur naaj ko jaalim, teri samsheer kahate hain,
kaleje mein chubh jaaye, bas usee ko teer kahate hain.

दीवाने की ये बातें तो दीवाने ही जानते हैं,
जलने में क्या मजा है यह तो परवाने ही जानते हैं।

deevane kee ye baaten to deevaane hee jaanate hain,
jalane mein kya maza hai yah to parvane hee jaanate hain.

में सांस लेता हूँ तेरी खुशबू आती है,
इक महका महका सा पैगाम लाती है।

mein saans leta hoon teri khushabu aati hai,
ik mahaka mahaka sa paigaam laatee hai.

तुम यूं ही जलाते रहना आकर यों ख्वाबों में,
मैं यो ही जलता रहूँ इस घर की चार दीवारों में।

tum yoon hee jalaate rahana aakar yon khvaabon mein,
main yo hee jalata rahu is ghar ki chaar deevaaron mein.

ये कैसा रिश्ता है ये कैसे सपने है,
वेगाने होकर भी क्यू लगते अपने हैं।

ye kaisa rishta hai ye kaise sapane hai,
vegaane hokar bhee kyoo lagate apane hai.

इस खत को लिखता हूँ मोहब्बत के लिए, टुकड़ा ना समझना,
ओ बेवफा तूने मुझसे की बेवफाई, मुझे बेबफा ना समझना।

is khat ko likhata hoon mohabbat ke lie, tukada na samajhana,
o bevfa tune mujhase kee bevfai, mujhe bebapha na samajhna.

Post a Comment

0 Comments