Hindi Shayari

दिल की हालत की तरफ किसकी नजर जाती है,
इश्क की उम्र तमन्ना में गुजर जाती है।

dil kee haalat kee taraph kisakee najar jaatee hai,
ishk kee umr tamanna mein gujar rahee hai.

झुटपुटा वक्त है बहता हुआ दरिया ठहरा,
सुबह से शाम हुई, दिल न हमारा ठहरा।

jhutaputa vakt hai bahata hua dariya thahara,
subah se shaam huyi, dil na hamaara thahara.

जो अपने वारिसों को जिन्दगी में कुछ नहीं देते हैं,
वह अपने दरम्यान सोने के खंजन छोड़ जाते हैं।

jo apane vaarison ko jindagee mein kuchh nahin dete hain,
vah apane daramyaan sone ke khanjan chhod jaate hain.

बीज नफरत के कभी दिल मैं जो बोता होगा,
उम्र भर चैन से वो शख्स न सोता होगा।

beej napharat ke kabhee dil main jo bota hoga,
umr bhar chain se vo shakhs na sota hoga.

हम जान भी दे देंगे तेरे प्यार के आगे,
पर झुक नहीं सकते तेरी तलवार के आगे।

ham jaan bhi de denge tere pyar ke aage,
par jhuk nahin sakate teree talavaar ke aage.

हो बहारें अब भी और घटा छाई हुई,
देख कर गुल को बुलबुल होगी मस्ताई हुई।

ho bahaaren ab bhee aur ghata chhaee huee,
dekh kar gul ko bulabul hogee mastaee huee.

होगा खामोशी का आलम चान्दनी छाई हुई,
बैठी होगी एक तरफ दुल्हन भी शर्माई हुई।

Post a Comment

0 Comments