Shayari for Love

दिन को आओ तो अच्छा हैं यू रात को आना ठीक नहीं,
अब इतना सताना काफी हैं अब और सताना ठीक नहीं।

din ko aana to achchha hai yoo raat ko aana theek nahin,
ab itana sataana kaaphee hain ab aur sataana theek nahin.

रात के अंधेरे में हमसे दामन बचा के,
ना जा पाओगी हमसे नजरें चुरा के।

raat ke andhere mein hamse daaman bacha ke,
na ja paogee hamase najaren chura ke.

सब कुछ तो लुट चुका है अब और क्या लुटाऊं,
इक चीज बच रही है कैसे तुम्हें बताऊँ।

sab kuchh to lut chuka hai ab aur kya lutaun,
ik cheej bach rahee hai kaise tumhe bataoon.

आजा तू जल्दी आजा आजा मेरी खातिर,
बरना किसी दिन निकलेगा जनाजा तेरी खातिर।

aaja too jaldee aaja aaja meri khaatir,
barana kisee din nikalega janaaja teri khaatir.

ना जीने की तमन्ना है ना मरने की तमन्ना है,
तमन्ना तो बस इतनी कि मिलने की तमन्ना है।

na jeene kee tamanna hai na marane kee tamanna hai,
tamanna to bas itani ki milane ki tamanna hai.

क्या ये ही इस दुनियाँ में उल्फत का दस्तूर है,
मुद्दत के बाद आये तो मांग में सिन्दूर है।

kya ye hee is duniyan mein ulphat ka dastoor hai,
muddondat ke baad aaye to maang mein sindoor hai.

सूरज तो निकलता है मगर रोशनी नहीं,
मुझको तो इस जहां में आता नजर अन्धेरा।

sooraj to nikalata hai magar roshani nahin hai,
mujhako to is jahaan mein aata najar andhera.

Post a Comment

0 Comments