Mohabbat Shayari in Hindi

मैंने दिया तम्हें रूमाल, तुम लेती क्यों नहीं हो।
मोहब्बत किस से करती हो, बताती क्यों नहीं हो।।

mainne diya tamhen roomaal, tum letee kyon nahin ho
mohabbat kis se karatee ho, bataatee kyon nahin ho

अश्क, अदाओं से मोहब्बत, कम नहीं होगी।
हम तुम पर मर मिटेंगे, तुम को खबर भी नहीं होगी।।


ashk, adaao se mohabbat, kam nahin hogee
ham tum par mar mitenge, tum ko khabar bhee nahin hogee

जी सच्ची मोहब्बत करे, उन्हें बेवफाईयाँ मिलती है।
मोहब्बत में तो अक्सर, जुदाईयाँ मिलती है।।

jee sachchee mohabbat kare, unhen bevaphaeeyaan milatee hai

mohabbat mein to aksar, judaeeyaan milatee hai

फूल है गुलाब का तोड़ा नहीं जाता।
मोहब्बत कर के किसी को छोड़ा नहीं जाता।।

phool hai gulaab ka toda nahin jaata.

mohabbat kar ke kisee ko chhoda nahin jaata ..

दोस्तो लड़कियाँ तो बहुत हैं, इस देश में।
मोहब्बत नसीब वालों को मिलती है, इस देश में।।


mitro ladakiyaan to bahut hain, is desh mein.

mohabbat naseeb vaalon ko milati hai, is desh mein

मौहब्बत तो वो करता था, दिल्लगी तो हमने की।

मोहब्बत हो ना सकी, उसकी शादी किसी और से की।।

mauhabbat to vo karata tha, dillagi to hamane ki

mohabbat ho na saki, usaki shadi kisi aur se ki

आँसू तेरी आँखों में, देख तो नहीं सकता हूँ मैं,
मोहब्ब्त करके, दिल दे तो सकता हूँ मैं।

aanshu teri aankho mein dekh to nahi sakta hun mein,
mohbbat karke, dil de to sakta hun mein,

तेरी नज़रों ने, पागल तो किया है मुझे,
तूने मोहब्बत की तो क्या, अपने प्यार के काबिल तो समझा है मुझे।

सनम, मेरी कब्र पर आँसू बहाओ या ना बहाओ, यह तो हमें मालूम नहीं,
मोहब्बत मेरी मर के भी रहेगी, यह तुम्हें मालूम नहीं।

मैं उसे जिन्दा ना पा सका, तो मर कर जरूर पाऊँगा,
मोहब्बत की खातिर अपनी जान भी गवाँ जाऊँगा।

Post a Comment

0 Comments