Two Line Shayari in Hindi

हटा दो आईना, है हुस्न सूरत देखने वाले।
तुझे क्या जरूरत है, हम जो हैं देखने वाले।।

hata do aaina, hai husn soorat dekhane vale

tujhe kya jaroorat hai, ham jo hain dekhne vale

ये कैसी बेखदी है जिसे लिख गया हूँ।
मैंने अपने नाम के बदले तेरा लिख गया हूँ।।

ye kaise bekhadee hai jise likha gaya hun

maine apane naam ke badale tera naam likh gaya hun

जमाना हसता है मुझ पर हजार बार हो।
तुम्हारी आंख में लेविज नमी सी क्यों आई।।

jamaana hasata hai mujh par hajaar baar ho.

tumhari aankh mein levij namee see kyon aaee

बैठे हुए देते हैं तो दामन ही हवाएं।
खुदा करे हमज कमी होश में आएं।।

baithe hue dete hain to daaman hee havaen

khuda kare hamaj kamee hosh mein aae

आबादी भी देखी है.वीराने भी देखे हैं।
जो उजड़े और फिर बसे, दिल तो जिदाली वस्ती है।।

aabadi bhi dekhee hai. veerane bhee dekhe hain

jo ujade aur phir base, dil to jidalee vastee hai

कातिल का नाम लिख दिया, क्यों मेटी का पर।
लेते हैं राहगीर भी बोसे मजार के।।

kaatil ka naam likh diya, kyon metee ka par

lete hain raahgeer bhee bose majaar ke

तोड़कर सीने को मैं दिल में अपना घर किया।
कौन कहता है कि वे तीरे नजर नहीं।।

todakar seene ko main dil mein apana ghar kiya

kaun kahata hai ki ve teere nazar nahin

मैं क्या कहूं, कहां है मुहब्बत कहां नहीं।
रग-रग में दौड़ती फिरती है, नस्तर लिए हुए।।

main kya kahoon, kahaan muhabbat kahaan nahin hai

rag-rag mein daudatee phiratee hai, nastar lie hue

फैंक दूं दिल को अभी चीर के पहलू अपना।
तुझ पे काबू नहीं, दिल पर तो है काबू अपना।।

phaink doon dil ko abhee cheer ke pahaloo apana

tujh pe kaabu nahin, dil par to hai kaabu apana

क्या जानिए कम्बख्त क्या हम पे किया सहर।
जो बात न थी मानने की, मान गए हम।।

kya janiye kambakht kya ham pe kiya sahar

jo baat na thee maanane ki, maan gaye ham

दिल टूटने से थोड़ी सी तकलीफ तो हुई।
लेकिन तमाम उस को आराम हो गया।।

dil tootane se thodee see takaleef to huee

lekin tamaam us ko aaraam ho gaya

पिछले पहर के चांद सितारों से पूछ लो।
क्या क्या न दुख दिये है शबे इन्तजार ने।।

pichhalee pahar ke chaand sitaaron se poochh lo

kya kya na dukh diye hai shabe intajaar ne

रोयेगी ये आँखे मुस्कराने के बाद,
आयेगी ये रात दिन ढल जाने के बाद।
कभी मुझसे दोस्त तुम रूठना नहीं,
ये जिंदगी न रहेगी तेरे रुठ जाने के बाद।।

हर पल खुशी पर हक हो तेरा,
खुशियों से भरा सफर हो तेरा,
गम कभी करवट न बदले तेरी तरफ।
सदा मुस्कराता रहे चेहरा तेरा।।

सितारों को गिन के दिखाना मुश्किल है,
किस्मत में जो लिखा हो उसे मिटाना मुश्किल है।
आपको मेरी जरूरत हो या न हो दोस्त,
आपकी अहमियत लफ़्ज़ों में जताना मुश्किल है।।

Post a Comment

0 Comments