Wada Shayari

वादे पर वो हमारा एतवार नहीं करते,
हम इकरारे मुहब्बत सारे बाजार नहीं करते।
हम डरते हैं उनकी रूसवाई से,
वो समझते हैं हम उनसे प्यार नहीं करते।

इस दुनियां में सबसे अच्छे दोस्त कम मिलेंगे,
हम जैसे दोस्त कभी नहीं मिलेंगे।
अगर सभी छोड़ दें साथ तुम्हारा,
हम हर साम में खड़े मिलेंगे।

खुशबू की तरह आपके दिल में बिखर जाऊँगा,
तस्वीर की तरह आपके दिल में उतर जाऊँगा।

मुझे महसूस करने की कोशिश तो करो,
दूर रहकर भी आपके पास नजर आऊँगा।

गिरावट की जिन्दगी जिया नहीं करते,
पीछा हम किसी का किया नहीं करते।

अगर दिल में मुहब्बत हो तो कह देना,
जबरजस्ती हम दिल किसी को दिया नहीं करते।

ऐ शमा। तुम पे रात ये भारी है जिस तरह।
हमने तमाम उम्र गुजारी है इस तरह।।

ai shama. tum pe raat ye bhaaree hai jis tarah.

hamne tamaam umra gujaaree hai is tarah

गुनगुनाती हुई आती है फलक से बंदें।
कोई बदली तेरी पाजेब से टकराई हो।।

gungunati huee aatee hai falak se banden

koee badalee teree paajeb se takaraee ho


मैंने कभी जिद तो नहीं की, पर आज शब।
ऐ महजबी! न जा कि तबियत उदास है।।

mainne kabhee jid to nahin kee, par aaj shab

ai mahajabee! na jaa ki tabiyat tabiyat udas hai


जरा सी देर हो जाएगी तो क्या होगा।
घड़ी-घड़ी न उठाओ नजर घड़ी की तरफ।।

jara see der ho jaegee to kya hoga.

ghadee-ghadee na uthao najar ghadee kee taraph .

ये उड़ी-उड़ी सी रंगत, ये खुले-खुले से सूं।
तेरी सुबह कह रही है, तेरी रात का फसाना।।

ye udee-udee see rangat, ye khule-khule se soon

teree subah kah rahee hai, teree raat ka paasaana

पुराना है नहीं ये दिल खरीदा है इसे अब ही।
कहे इसको पुराना जो सुनो पागल है वो सब ही।।


puraana nahin hai. ye dil khareeda hai ese ab hi

kahe isako puraana jo suno paagal hai vo sab hee

जिधर से हो गुजरना तेरा सभी दिल थाम लेते है।
चमन में भी अगर पहुंची तेरा सब नाम लेते हैं।।

jidhar se ho gujarana tera sab dil thaam lete hai
chaman mein bhee agar pahunchee tera sab naam lete hain

ये तेरी झील सी आँखें सुराहीदार ये गर्दन।
तेरी जुल्फ लहराती लगे जैसे कोई नागिन।।

yah teree jheel see aankhon suraaheedaar ye gardan

teree julph laharaatee lage jaise koee naagin

तझे छेडा था जब मैंने तो दिल गरमा गया होगा।
रवदा जे जब गढा तुझको तो खुदा शरमा गया होगा।।

tujhe chheda tha jab mainne to dil garama gaya hoga
ravaada je jab gadha tujhako to khuda sharama gaya hoga

बता हममें है क्या अन्तर जवां तुम हो जवां मैं हूँ।
जुदा नहीं होते हम तुम जहाँ तुम ही वहाँ में हूँ।।

bata hamamen hai kya antar javaan tum ho javaan main hoon

juda nahin hote ham tam jahaan tum hee vahaan mein hoon

करे इतना तू क्यों फैशन बिना बादल क्या बरसेगी।
प्यार करना हो तो करले नहीं तो बाद में तरसेगी।।

kare itana too kyon phaishan bina baadal kya barasegi

pyaar karana ho to karale nahin to baad mein tarasegi

नजर तीखी से ना देखों नाजुक दिलवर है।
मेरे महबूब के ऊपर मेरी दिलोजान निछावर है।।


najar teekhee se na dekhon naajuk dilavar hai

mere mahaboob ke oopar meri dilojaan nichhaavar hai

जब तलक मैं कंवारा हैं हसीनों के रूप का प्यारा हूँ।
जब तलक जवा कातिल तुम्हारा ही तुम्हारा हूँ।।

jab talak main kunvaara hain haseenon ke roop ka pyaara hoon
jab talak java kaatil tumhaara hee tumhaara hoon

मस्त हवा के झोंकों मैं यूं जाना ठीक नहीं।
मैं कौन हूँ क्या कर डालूंगा पहचानना ठीक नहीं।।


mast hava ke jhonkon main yoon jaana theek nahin

main kaun hoon kya kar dalunga pahchana theek nahin

चन्द नि, आह मियां, मैं भी खुदाई करलूं
झूठ ही कह दो के ‘हां तुमसे मोहब्बत है हमें

chand ni, aah miyaan, main bhee khudayi karaloon
jhooth hee kah do ke haan tumase mohabbat hai hamen

जिंदगी तुझसे हमें कोई तमन्ना कब है।
अब तो इस आस पै जीते हैं कि मरना कब है।।

jindagi tujhase hamen koi tamanna kab hai
ab to is aas pai jeete hain ki marana kab hai

किसी के एक आँशु पर हजारों दिल तड़पते हैं।
किसी का उम्र भर रोना यूँ ही बेकार जाता है।।

kisee ke ek aanshu par hajaaron dil tadapate hain
kisee ka umr bhar rona yoon hee bekaar chala jaata hai

उनकी आँखों से भी आँशु छलक आये होंगे।
जिसने हालात मेरे उनको सुनाये होंगे।।

unakee aankhon se bhee aanshu chhalak aaye honge
jisne halat mere unko sunaye honge

कितनी मजबूरियाँ  पलकों पे सजा देते हैं।
हम कहाँ रोते हैं हालात रूला देते हैं।।

kitani majbooriyan palkon pe saja dete hain
ham kaha rote hain halat rula dete hain

जाएगा जब तू यहाँ से कुछ भी न तेरे पास होगा
बस दो गज कफन का टुकड़ा तेरा लिबास होगा

jayega jab too yaha se kuchh bhee na tere paas hoga
bas do gaj kaphan ka tukada tera libaas hoga

जब इश्क बिकेगा दौलत पर दीवानों का हाल क्या होगा
शमां जली जब महफिल में तो परवानों का हाल क्या होगा

jab ishk bikega daulat par deevaanon ka haal kya hoga
shamaan jalee jab mahaphil mein to paravaanon ka haal kya hoga

सैकड़ों फूल मुहब्बत के इधर उधर खिल उठे
तुमने हंसती हुई नजरों से जिधर देख लिया

saikadon phool muhabbat ke idhar udhar khil uthe
tumne hansatee huee najaron se jidhar dekh liya

महफिल सजाए बैठा हूँ शमां जलाए बैठा हूँ
आप आ जाओ, अंजुमन में पलके विछाए बैठा हूँ

mahaphil sajaye baitha hoon shamaan jalaye baitha hoon
tum aa jao, anjuman mein palake vichhaye baitha hoon

Post a Comment

0 Comments